गुरुवार, 19 नवंबर 2009

कर्म से पीछे ना हटना चाहिये

कर्म से पीछे ना हटना चाहिये|
प्रेम से हरि नाम रटना चहिये||
कर्म से ...............
सुख - दुःख ,दिन - रात से आते सदा |
ये समझ इनसे निपटना चाहिये ||(१)
कर्म से ...............
भोग में भरम है, सुखो का सुख कहा |
व्यर्थ क्यूँ इनसे लिपटना चाहिये ||(२)
कर्म से ..............
मृत्यु कर देती है, जब सबसे अलग |
फ़िर क्यूँ इससे व्यर्थ चिमटना चाहिये ||(३)
कर्म से ..............
मार्गदर्शन वेद - बुद्ध सब कर रहें |
शम्भू फ़िर क्यूँ, दर भटकना चाहिये ||(४)
कर्म से ...............

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें